मर न सका…….

इन उलझनों से मैं उबर न सका,
मुझे यही ग़म है कि मर न सका!

वह तो मेरी रू’ह में मौजूद रही,
पर मैं कभी उसमें उतर न सका!

मेरे इश्क़ को उसने ठुकरा दिया,
बिखर गया यूँ कि सवर न सका!

जिंदगी मुझे जहर पिलाती रही,
मगर मैं उसे इंकार कर न सका!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.